NSIC - National Small Industries Corporation
NSIC - Facilitating the Growth of Small Enterprise Since 1955








 
मीडिया कक्ष
 
जालंधर में एनएसआईसी ऑन लाइन वित्‍त सुविधा केन्‍द्र का उदघाटन
एनएसआईसी के सीएमडी श्री रविन्‍द्र नाथ ने जालंधर स्‍थित एनएसआईसी के शाखा कार्यालय में एनएसआईसी के प्रथम ऑन लाइन वित्‍त सुविधा केन्‍द्र का उदघाटन किया। बैंकों से एमएसएमई इकाइयों के ऋण संबंधी प्रस्‍तावों की डिजिटल सुविधा कराने के लिए यह ऑन लाइन वित्‍त सुविधा पोर्टल www.nsicffconline.in एनएसआईसी की एक नयी पहल है। इस अवसर पर संबोधित करते हुए श्री रविन्‍द्र नाथ ने कहा कि एमएसएमई इकाइयों के समर्थ सेवाएं प्रदान करने के अपने इन प्रयासों में देश के विभिन्‍न भागों में वित्‍त सुविधा केन्‍द्र स्‍थापित किए जा रहे हैं जो कि एमएसएमई इकाइयों की विभिन्‍न क्रेडिट संबंधी जरूरतों को संकलित कराने में सहायता करेंगे और एनएसआईसी के अधिकरियों द्वारा इन जरूरतों की वैधता देखकर एमएसएमई इकाई द्वारा चुने गए बैंकों को ऑन लाइन जमा की जाएगी ताकि उनके क्रेडिट प्रस्‍तावों का तेजी से निपटान हो सके। इस प्रकार एमएसएमई इकाइयों को वित्‍त पाने में आसानी होगी, समय बचेगा तथा इकाई को कोई अतिरिक्‍त लागत नहीं देनी होगी। अनेक बैंक एनएसआइसी के इस वित्‍त सुविधा वैब पोर्टल से ऑन लाइन लिकेंज प्रदान करने के लिए पहले से सहमत हो गए हैं। इस अवसर उपस्‍थित गणमान्‍य व्‍यक्तियों में ईईपीसी उत्‍तरी क्षेत्र की अध्‍यक्ष श्रीमती कॉमना राज अग्रवाला, इस क्षेत्र के प्रमुख विभिन्‍न औद्योगिक संघों के प्रति‍निधि, बैंकों के क्षेत्रीय प्रतिनिधि उपस्‍थित रहे। औद्योगिक संघों के प्रतिनिधियों ने इस अवसर पर एनएसआईसी के सीएमडी की प्रशंसा की और सराहना की एनएसआईसी सदैव एमएसएमई इकाइयों को उच्‍च स्‍तर की सेवाएं प्रदान करता है तथा इस ऑन लाइन वित्‍त सुविधा केन्‍द्र की शुरूआत करना भी उसी एक एक प्रतिरूप है, उन्‍होंने आश्‍वासन दिया कि उनके संघों के सदस्‍य को इस सेवा का काफी लाभ मिलेगा।


<< Previous [ 1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 11 12 13 14 15 16 17 18 19 20 21 22 23 24 25 26 27 28 29 30 31 32 33 34 35 36 37 38 39 40 41 42 43 44 45 46 47 48 49 50 51 52 53 54 55 56 57 58 59 60 61 62 63 64 65 66 67 68 69 70 71 72 73 74 75 76 77 78 79 80 81 82 83 84 85 86 87 88 89 90 91 92 93 94 95 96 97 98 99 100 101 102 103 104 105 106 107 108 109 110 111 112 113 114 115 116 117 118 119 120 121 ] Next >>